Friday, December 10, 2010

तो राजतिलक की जगह सुबह वनवास नहीं होता..........

                      संबंधो का गर उनको एहसास नहीं होता
                       तो राजतिलक की जगह सुबह वनवास नहीं होता..........


                    रहते मर्यादा में ना खेलते जो चौसर
                     तो दुष्ट दुशासन का दुश्साहस नहीं होता......


                    सोने का हिरन लोगे सीता का हरण होगा
                   सीता का लंका में कभी वास नहीं होता....


                  कुछ लोग मेरे घर में रहते है मेहमा से
                 अपनों में दुश्मन का आभास नहीं होता................


                 अक्सर विपदाओ में हम ढूढते है अपने
                मै रो पड़ता हू जब कोई पास नहीं होता........


                घर में खामोशी है चौपाले सूनी है
               अब "धीर" यहाँ कोई परिहास नहीं होता...............
                                                          

No comments: