Friday, December 10, 2010

" एक डोली चली एक अर्थी चली "

                     एक डोली चली एक अर्थी चली, आज कैसी विदाई है
                   एक यहाँ से चली, एक वहा से चली, दोनों ही तो परे है .....

                   लाल जोड़े में सजती है दुल्हन- लाल जोड़े में लिपटी सुहागन
                   एक मिलने चली है पिया से- एक पी घर चली है अभागन
                   एक बसाने चली, एक बसाके चली, कैसी प्रीत निभाई है......

                    रो रहे है मगर हर्ष दिल में- एक तरफ रो रहे गमजदा है 
                    हो रही है रस्म सब विदा की- एक को जाना  यहाँ एक वहा है 
                    एक इस घर चली, एक उस घर चली, चारो कांधे उठाई है............

                    बेटिया तो पराई है लेकिन- प्रीत की डोर ऐसी बंधी है
                   "धीर" दस्तूर ये जिन्दगी का- बेडिया बन्धनों की कसी है 
                    एक निभाने चली, एक निभाके चली, कैसी रस्मो अदाई है.....                    

No comments: