Monday, March 7, 2011

गर शौक हो जनाब

                          मंजिलों की दास्ता खंडर से जानिए
                          गम - ए- ख़ुशी की दास्ता हर घर से जानिए
                         मौत से मुलाकात का गर शौक हो जनाब
                         बस कभी जीवन के दरो-दर  को जानिए
                         नुस्खा मिलेगा जीने का जीवन शकून से
                         उठिये किसी गरीब और बेघर को जानिए
                        कर्तव्य और भाग्य से मिलता है सब हमें
                        बस जरा करीब से मुकद्दर को जानिए
                         मछलियों को रेत पर क्यों डालते है आप
                         इससे भला तो दिल में बसे डर को जानिए
                         आवरण है मोम का पिंघलेगा तपन से 
                            हालात  में लिपटे किसी अवसर को जानिए
                        करते है बात अमन और मजहब के नाम की
                       बेहतर है उन लफ्जो में छिपे असर को जानिए
                       "धीर" दिखाते है जो औरो को आईना
                     उन शक्ल में बची हुई कसर को जानिए

6 comments:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

नुस्खा मिलेगा जीने का जीवन शकून से
उठिये किसी गरीब और बेघर को जानिए
khoob kaha aapne..... behtreen gazal

Roshi said...

sunder rachna

Kailash C Sharma said...

बहुत खूब! होली की हार्दिक शुभकामनायें !

सारा सच said...

अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....

रजनीश तिवारी said...

बहुत सुंदर रचना ।

pandey kirpashayamki said...

Bhahut sunder bhai...
Karte hai baat aman aur majhab k naam ki
Behtar hai un lafjo main cheepe aser ko janiye ....wah nice ...