Monday, March 7, 2011

गर शौक हो जनाब

                          मंजिलों की दास्ता खंडर से जानिए
                          गम - ए- ख़ुशी की दास्ता हर घर से जानिए
                         मौत से मुलाकात का गर शौक हो जनाब
                         बस कभी जीवन के दरो-दर  को जानिए
                         नुस्खा मिलेगा जीने का जीवन शकून से
                         उठिये किसी गरीब और बेघर को जानिए
                        कर्तव्य और भाग्य से मिलता है सब हमें
                        बस जरा करीब से मुकद्दर को जानिए
                         मछलियों को रेत पर क्यों डालते है आप
                         इससे भला तो दिल में बसे डर को जानिए
                         आवरण है मोम का पिंघलेगा तपन से 
                            हालात  में लिपटे किसी अवसर को जानिए
                        करते है बात अमन और मजहब के नाम की
                       बेहतर है उन लफ्जो में छिपे असर को जानिए
                       "धीर" दिखाते है जो औरो को आईना
                     उन शक्ल में बची हुई कसर को जानिए

Saturday, February 19, 2011

"दर्द कल्पनाओ का चित्रण "

                                      हम अपने ही हाथो अपने घर में आग लगा आये है
                                      खुशियों के गुलशन को धूँ धूँ करके आज जला आये है....

                                      मुझसे पूछा चंद अपनों ने कैसा ये पागलपन है ?
                                      सुखद आशचर्य हुआ हितेषी क्यों कर आज भला आये है...

                                     कैद हूँ मै गम की परिधि में दर्द कल्पनाओ का चित्रण
                                     अश्को के रंगों से उन चित्रों को आज सजा आये है...

                                     कैसे कोई करे  आंकलन श्रेष्ठ हीन दुर्बल का भला
                                     बाजारों में कुछ हम खोटे सिक्के आज चला आये है...

                                     प्रेम प्रीत स्नेह मिलन ये "धीर" आकांक्षा क्षीण हुई
                                     रिस्तो की पावन डोरी को दंभ में आज गला आये है...

Tuesday, February 15, 2011

"बात पुरानी लगती है"

                                       रात सुहानी, रुत मस्तानी, बीती बाते लगती है
                                       बदले युग में सत्य, अहिंसा, बात पुरानी लगती है...

                                      बस अपना मकसद हो पूरा, चाहे कुछ भी करो जतन
                                      न्याय, तर्क, कानून, अदालत, बात बेमानी लगती है....

                                      लफ्जों पर अफ़सोस और आँखों में लाचारी की शिकन
                                      हँसते चहरे, खिलते जीवन, बस एक कहानी लगती है....

                                      धर्म, संस्कृति, संस्कार, भाव समर्पण, शुन्य हुए
                                      मंजिल बुनियादी रिश्तों की बस एक निशानी लगती है...

                                     चौपालों पर हुक्को का नाद, हलचल गावों में उत्सव की
                                      सब मौन हुए स्नेह-मिलन, हर राह विरानी लगती है...

                                    जीवन की उलझन में उलझा कैसे सुलझाऊ मै उलझन
                                   अब "धीर" ये उलझन और सुलझन कुछ बात बेगानी लगती है...

Thursday, February 10, 2011

"इंसानियत जो कुछ बचाली जाएगी"

                                                            बात बस्ती में उछाली जायेगी
                                                            जिन्दगी कुछ यूँ खंगाली जायेगी ...

                                                            अब गरीबो की यहाँ पर डोलिया
                                                            अर्थियो जैसी निकाली जायेगी ...

                                                            बिक रहा मजहब यहाँ ईमान भी
                                                            हुस्न की बोली लगाली जायेगी ...

                                                           बिक रहा दौलत से अब सिन्दूर भी
                                                           मांग खूनों से सजाली जायेगी ...

                                                           अब दलालों के हवाले कौम है
                                                          सरकार भी घर में बनाली जायेगी ...

                                                           काम "धीर" आयेगी मरने के बाद
                                                           इंसानियत जो कुछ बचाली जायेगी ...

Wednesday, February 9, 2011

इश्क जब दिल से सजा देता है

                                                       मोम पत्थर को बना देता है
                                                       इश्क जब दिल से सज़ा देता है...

                                                      बहता सावन है आँख से यारो
                                                      पव्वा बोतल का मजा देता है...

                                                    किसको बतलाये दर्दे-दिल क्या भला
                                                    कौन जख्मो को दवा देता है...

                                                   कैसे देगी सुनाई मेरी सदा
                                                   दर्द आवाज दबा देता है...

                                                  यार रूठा है एक अरसा हुआ
                                                 क्यों वो अफवाह को हवा देता है...

                                                "धीर" मालूम नहीं अपना पता
                                                पता गैरों का बता देता है...
              

Sunday, February 6, 2011

"शकुनी से कुशल जुआरी देख"

                                          मैंने हरदम आँखे खोली आँखों की मक्कारी देख
                                          बचपन से मै बड़ा हुआ हूँ कितनी दुनियादारी देख...

                                          शिकवा करते है गैरों का अक्सर लोग ज़माने में
                                         पर मुझको शिकवा आता है यारो की गद्दारी देख...

                                         कुछ लोगो की सूरत उजली सीरत काली होती है
                                         अब तो मै भी लगा समझने सूरत प्यारी प्यारी देख...

                                        सत्ता पे सुसोभित धृतराष्ट्र कैसे रोकेगा चीर हरण
                                        दब जाता है प्रतिशोध यहाँ पापो की चिंगारी देख...

                                       जब-जब चाहोगे स्वर्ण मृग सीता का हरण तो होगा ही
                                       लाखो पैदा होंगे रावण कुंठित ये सोच विचारी देख...

                                       पग-पग पर बैठा विभीषण अपनों पर दाव लगाने को
                                      अब "धीर" राहों खामोश यहाँ शकुनी से कुशल जुआरी देख....
         

"दिल कम है दिलदार बहुत है"

                            जीवन के लम्बे अभिनय में अपने भी किरदार बहुत है
                            दिल वालो की इस दुनिया में, दिल कम है दिलदार बहुत है...

                            घर- घर की अपनी पंचायत घर- घर में सरकार बहुत है
                           धर्म संस्कृति के गुलशन में फूल है कम पर खार बहुत है...

                           जिसकी लाठी गाय उसी की दो धारी तलवार बहुत है
                           हर चहरे पर है अब चेहरा इस जग में गद्दार बहुत है...

                         मैंने जब से सीखा लड़ना अब वो भी हुशियार बहुत है
                         बेगानों को समझे अपना ऐसो की दरकार बहुत है...

                       अपना जीवन कोरा कागज गम के भी अम्बार बहुत है
                       "धीर" सफ़र है तेरा लम्बा जीवन में मझदार बहुत है....

Tuesday, January 18, 2011

"कलेजे तक ही जल बैठे"

                                    चली बाते मोहब्बत की यहाँ पर दिल मचल बैठे
                                    ज़वा दिल की है गुस्ताखी की इन राहों पे चल बैठे....

                                    ये वो मौसम है जब छत पर हवाये नम सी लगती है
                                   ना जाने कब वो आ जाये इसी सदके संभल बैठे...

                                    किताबे रात भर चाटी तसव्वुर में उन्हें लेकर
                                    सुबह देखा जो पेपर तो कलेजे तक ही जल बैठे...

                                   भ्रम चाहत का ही अक्सर मेरा मुझको रुलाता है
                                  यहाँ चाहत को गफलत में ही चाहत से बदल बैठे...

                                   इश्क पावन हो भावों से भरे हो प्रेम के बंधन
                                   इश्क दरिया है जज्बातों की कश्ती पर निकल बैठे...

                                 समुन्द्र है ये अहसासों का वो गुलशन है काँटों का
                                इन्ही काँटों में अपना "धीर" हम दिल ही मसल बैठे.....

Monday, January 10, 2011

"मंजर देखा है"

छत पर चढ़ कर साँझ का मंजर देखा है
पकडे हर एक हाथ को खंजर देखा है...


वो पडदे को छोड़ मदरसे जा पहुची
बस इतनी सी बात, बवंडर देखा है...


गाँव की सीता राम के हाथो जल बैठी
रावण को अब राम के अन्दर देखा है...


अब सीने में आग कहा लग पाती है
हर दिल को खामोश समुन्द्र देखा है...


बने आश्रम तोड़ गरीबो की बस्ती
बस श्रद्धा के नाम आडम्बर देखा है...


"धीर" जहा बसती है मानवता मन में
उसके सजदे झुका ये अम्बर देखा है....