Thursday, December 30, 2010

"वैश्य रतन पुरुस्कार

"वैश्य रतन पुरुस्कार" दिल्ली वैश्य वेलफेअर सोसायटी द्वारा
धीरेन्द्र गुप्ता को २७ सितम्बर २००८ को दिया गया....

Saturday, December 25, 2010

"लोग नातो को भूल जाते है"


                           बीती बातो को भूल जाते है
                          चंद रातो में भूल जाते है....

                         याद रहता है बस सुनहेरा सफ़र
                         लोग नातो को भूल जाते है....

                        जिसने देखा था दुलारा था उसे
                        ऐसी आँखों को भूल जाते है....

                      जिसके आँचल में गुजरा बचपन
                      उन्ही सांसो को भूल जाते है....

                     लोरिया गाके सुलाया करती 
                     फैली बाँहों को भूल जाते है...

                    मिल गई मंजिले जिनको यहाँ अंजाने में 
                    गुजरी राहों को भूल जाते है....

                   अपना अपना नसीब है प्यारे 
                   ख़ास यादों को भूल जाते है...

                 "धीर" मतलब परस्त लोग यहाँ 
                  अपने वादों को भूल जाते है...

Friday, December 24, 2010

"मेरा पता"

                                                                 धीरेन्द्र गुप्ता"धीर"

Sunday, December 19, 2010

"घर औरो के आबाद करू"

                       गुजरे जीवन के चित्रण में बोलो क्या-क्या यांद करू
                      कितना टूटा, सबसे रूठा, किस-किस से फ़रियाद करू....

                      आसमान में दीखा तारा छूने को मन ललचाया
                     कितना पागल, समझ ना पाया, वक्त अपना बर्बाद करू...

                     मै ना समझा, मै ना जाना, अनपढ़ भोला अंजाना
                    अंतिम को पहले करता हूँ और पहले को बाद करू...

                   कतरा-कतरा कटी जिन्दगी दूर सफ़र की राहों में
                   मौत है मंजिल इन राहों की, क्यों मै वाद-विवाद करू...

                 इश्क, मोहब्बत, प्रेम, इबादत, होती है होती होंगी 
                 अंजाना हूँ जिन पहलू से क्यों उस पर संवाद करू...

                उम्मीद करू क्या जीवन से जीवन अनजान पहेली है
               अच्छा है खुद को मिटा"धीर" घर औरो के आबाद करू...

Thursday, December 16, 2010

"बदकिस्मत की चंद लकीरे हाथो में"


                                            फूल की मानिद हँसता बचपन कैद हुआ चंद हाथो में
                                            रूठा वक़्त, समय भी छूटा तकदीरे बंद हाथो में...

                                           ढाबो पर बर्तन घिसता है वक़्त मिला सो जाता है
                                           शेष बची है बदकिस्मत की चंद लकीरे हाथो मे...

                                          पिता की चाहत, माँ की लोरी, यादें भूली बिसरी सी
                                         छिप-छिप कर वो रो लेता है रख के आँखे हाथो में....

                                        मन्नत करता है बाबूजी भूख लगी कुछ खाना दो
                                        रख देता ढाबे का मालिक चंद निवाले हाथो में...

                                      अच्छी किस्मत होती है नादान भला वो क्या जाने
                                      जिसकी किस्मत में जकड़ी है सख्त जंजीरे हाथो में...

                                   खेलने, खाने, और पढने की उम्र गुजारी ग़ुरबत से
                                   "धीर" लिखा क्या क्या किस्मत में पढ़ लेना सब हाथो में..........

"लोग चहरे पे चेहरा लगाते रहे"


                                               कुछ छुपाते रहे, कुछ बताते रहे
                                               जिन्दगी इस तरह हम बिताते रहे 

                                               मेरी बातो पे आये ना उनको यकीं 
                                               दर्दे दिल उनको फिर भी सुनाते रहे 

                                              कोई कहता था चेहरों पे पढ़ लेना सब 
                                              हर चेहरों पे नजरे जमाते रहे 

                                             शायद अनपढ़ था कुछ भी समझ ना सका 
                                            लोग चेहरो पे चेहरा लगाते रहे 

                                             हाथ की इन लकीरों में उलझा रहा 
                                             दोस्त किस्मत के सपने दिखाते रहे 

                                            ता उम्र "धीर" घर में निठल्ले रहे 
                                             यार घर बार अपना बनाते रहे ...

Tuesday, December 14, 2010

"चेले गुरुओ के हाथो छले जायेगे"

                                          मायने जिन्दगी के बदल जायेगे
                                         अब कलंकित दिखाई धवल जायेगे...

                                        पाठशाला में होने लगे है जख्म
                                        चेले गुरुओ के हाथो छले जायेगे...

                                       वासना का समुन्द्र भरा सोच में 
                                      देख कन्या गुरुजन मचल जायेगे.....

                                     सरस्वती का भवन भी कलंकित हुआ 
                                    गुरुवर संस्कृति को निगल जायेगे...

                                   बदले युग में यो रिश्ते दरकने लगे 
                                   रिश्ते पावन हदों से निकल जायेगे...

                                   "धीर" तस्वीर सब साफ़ दिखने लगी
                                    ठोकरे जब पड़ेंगी संभल जायेंगे....

                                             


"कपास को कानो से लगाना तो छोडिये"

                                                 चढ़ मंच पर हल्ला यो मचाना तो छोडिये
                                                 हद हो गई अपने को जताना तो छोडिये.....

                                                 जिसको बनाने में दफ़न लाखो है जिन्दगी
                                                ऐसे मंका को अपना बनाना तो छोडिये...

                                               जेवर बना सोने को गलाया जो ताप में
                                               खुद को उन्ही जेवर से सजाना तो छोडिये...

                                              दिल है मगर दिलदार का नामो निशां नहीं
                                              अच्छा है यहाँ दिल को लगाना तो छोडिये....

                                             बैठे है यहाँ भेडिये इंशा की खाल में
                                             आते हो नजर खुद को छुपाना तो छोडिये..

                                             अब कौन दलालों से बचायेगा कौम को
                                             मिल जायेगा जवाब बहाना तो छोडिये...

                                             हर शख्स शख्शियत की परीधि मै कैद है
                                            आ जायेगा यकीन भुलाना तो छोडिये....

                                          "धीर" बदल जाएगी तस्वीर वतन की
                                           कपास को कानो  से लगाना तो छोडिये....

Monday, December 13, 2010

"लक्ष्य निशाने पर तना तीर होना चाहिये"

                                                               
                                                   जिन्दगी में हार कर भी जीत का करलो जशन 
                                                   सामने लेकिन तुम्हारे वीर होना चाहिये...

                                                  मर गए अहले वतन पर फक्र की ही बात है
                                                  हौसला भरपूर दिल गम्भीर होना चाहिये...

                                                  काम आ जाये जो ये तन देश के निर्माण में
                                                  हर जवानी का ये ही तकदीर होना चाहिये....

                                                  वीर सावरकर या शेखर, बिस्मिल, भगत सिंह की तरह
                                                 आग सा तपता हुआ शमशीर होना चाहिये....

                                                 हम बदल डालेगे अब तस्वीर गुजरे दौर की
                                                लक्ष्य निशाने पर तना बस तीर होना चाहिये...

                                                भाव राष्ट्र ऐकता हो अमनो-चैन का सदा 
                                               बस येही आँखों में सपना "धीर" होना चाहिये....

Sunday, December 12, 2010

सूरत बनाता हूँ...

                                   याद आती वतन की ख्वाब में सूरत बनाता हूँ...
                                   बुझी बिंदी, लुटा सिन्दूर लो सबको दिखाता हूँ ..


                                   बिठादो ताज सत्ता पर वतन को बाँट देते है
                                   मुझे अब शर्म आती है तभी चेहरा छुपाता हूँ...


                                   कुकुरमुत्तो सी पूंछे है भला सीधी कहा होंगी
                                   धवल कपड़ो में लिपटे नागो से खुद को बचाता हूँ...


                                   दुष्ट बनवीर की गोदी में जैसे हो उदय लेटा
                                   भविष्य अपने वतन का देख बस दिल को जलाता हूँ...


                                    यहाँ  हर डाल पर आते नजर वहशी परिंदे है
                                   शिकारी सा बना हर शस्त्र को मै आजमाता हूँ...


                                   लगाया जो परिंदों पर निशाना चूक जाता है
                                   हकीक़त देखकर क्यों "धीर" अक्सर तिलमिलाता हूँ....

Saturday, December 11, 2010

किसी पर जुर्म लाखो तो किसी को माफ़ रखता है...

 
                                         वो सजदा मुफलिसी में क्या खुदा से खाक करता है
                                         वो गम की आंच पर आंशू जला कर राख करता है...


                                         नहीं करता वो समझौता कभी अपने उसूलो का
                                        बेच के ख्वाब पलकों के वो ऊँची साख रखता है...


                                        कभी राहे, कभी फुटपाथ पर राते गुजारी है
                                        हंसी सपनो में वो जागी हमेशा आँख रखता है...


                                       बड़प्पन सोच में मुफलिस इरादा नेक रखते है
                                       वो अदना है तभी सच्चा है नीयत साफ़ रखता है...


                                       खुदाई पर खुदा तेरी ये ही शिकवा शिकायत है
                                        किसी पर जुर्म लाखो तो किसी को माफ़ रखता है...


                                       कोई भर-भर लुटाता है कोई भूखा गरीबी से
                                      खुदा भी "धीर" ये कैसा भला इन्साफ रखता है.........
    

वो छुपाते रहे हम बताते रहे.........

                                                                  वो हमें हम उन्हें आजमाते रहे
                                                                 कशमकश जिन्दगी की बढ़ाते रहे........


                                                                 कैसे आती नजर मुझको उसकी नजर
                                                                  थे वो हुशियार ऐनक लगाते रहे...


                                                                 था बहुत कुछ मगर मुफलिशी में जिए
                                                                खोटे सिक्के वो अपने चलाते रहे..........


                                                                 मै उसूलो के जाले में उलझा रहा
                                                                  दाव पर दाव वो भी लगाते रहे........


                                                                 "धीर" हालात पर मुस्कुराये सदा
                                                                  वो छुपाते रहे हम बताते रहे.........

"वो खुद पर शर्मिंदा है"

                                      हार गया वो कुदरत से वो ग़ुरबत में भी ज़िंदा है
                                      खुले गगन में उड़ना चाहे वो पर कटा परिंदा है...


                                     बेच दिया पुश्तैनी बंगला माँ की सांसे पाने को
                                     लेकिन माँ को बचा ना पाया वो खुद पर शर्मिंदा है...


                                     माँ की अर्थी और कफ़न का कैसे हो इंतजाम भला
                                     बेच दिये आंसू तक अपने मुफलिसी का कारिन्दा है...


                                     कैसा कान्धा कैसा आँचल अब यादे भर शेष रही
                                     वक़्त कही खुशियों का घर है और कही दरिंदा है...


                                     वो वसुधा का बना बिछौना फलक बदन पर लेता ओढ़
                                   "धीर" स्वपन में रोटी कपडा, फुटपाथी वाशिंदा है............

"गुजरते वक़्त की लहरों में वो कश्ती लुटा बैठा"

                            वो मयखाने के पैमाने में सब खुशिया लुटा बैठा
                           भरी मांगे,खनकती,चूडिया, बिंदिया लुटा बैठा......


                           फसा मझदार में साहिल पे कैसे वो भला जाता 
                           गुजरते वक़्त की लहरों में वो कश्ती लुटा बैठा...


                           वो घर के बेचकर बर्तन रंगीली रात रखता है 
                           जहा देखो अँधेरा है उजाले तक लुटा बैठा....


                          भला कैसे नजर आते तड़पते भूख से बच्चे
                          वो खारे पानी के हाथो सभी रिश्ते लुटा बैठा...


                          बदन को नापती वहशी निगाहों की खता क्या है
                         वो बंधन साथ फेरो का नजारों में लुटा बैठा....


                        वो पल-पल "धीर" नजरो में गिरा अपने परायो में
                        वो अपने हाथ से अपनी बनी हस्ती लुटा बैठा.......

यादों के खंडरो में पहचान ढूढता हूँ.................

                                  दुनिया के बाजारों में ईमान ढूढता हूँ
                                  स्वर खो गये वो सरगम वो तान ढूढता हूँ.....


                                   जलकर जलाये जिसने चिराग हसरतो के
                                   मुर्दा कफ़न में फिर वो मै जान ढूढता हूँ....


                                    गाते थे जागरण के जो गीत सो गये है
                                    मै फिर उसी जशन का अरमान ढूढता हूँ....


                                  कागज पे जिसने लिखकर बदली वतन की सूरत
                                  वो स्याही वो कलम के निगहबान ढूढता हूँ....


                                   लिखना बड़ा जटिल है बिकना बहुत सरल है
                                   बिकते नहीं कभी वो सामान ढूढता हूँ....


                               अब "धीर" उसूलो की बाते लगे यो जैसे
                                यादों के खंडरो में पहचान ढूढता हूँ......

कोई दिल से गरीब है प्यारे....

                                                 अपना अपना नसीब है प्यारे
                                                 कौन कितना करीब है प्यारे........


                                                चंद पाकर भी इबादत खुदा से करता है
                                                 कोई दिल से गरीब है प्यारे....


                                                सच से डरते है कभी हौसला नहीं करते
                                                आदमी कितने अजीब है प्यारे.....


                                                रोज देते है दगा और सितम करते है
                                              फिर भी कितने शरीफ है प्यारे......


                                               पांच पांडव से है खामोश ये बस्ती वाले
                                               हो रहा चीरहरण बदनसीब है प्यारे.........


                                               "धीर" चाहता हूँ सुनाऊ कुछ दिल की अपनी
                                                 कौन अपना रकीब है प्यारे...........

वो प्यारा सा एक बच्चा......

                                   
                         मै जिसके साये में रहता वो प्यारा सा एक बच्चा
                  हँसता रोता मुझे चिढाता वो न्यारा सा एक बच्चा...


                  निश्छल बाते गजब शरारत गूंजे किलकारी मन में
                 मैंने उसमे देख लिया सब, जग सारा सा एक बच्चा...


                 मीठी-मीठी बाते करके कर देता गम अंजाना
                 वो लगता जब हार मै जाता जलधारा सा एक बच्चा...


                जब जीवन वीरान लगे तब गुलशन सा वो लगे हमें 
               आशा के आसमान पे दीखता वो तारा सा एक बच्चा....


               कभी लगे की मै छोटा हूँ  कभी लगे की वो छोटा 
              नन्हे कदमो से चल-चल कर वो हारा सा एक बच्चा......


              मै जब-जब व्याकुल होता और संबंधो से जाता हार 
              "धीर" लगे वो मेरी जीत का हर नारा सा एक बच्चा...........  

दिल को सबर नहीं होता.........

                                          तेरे साये में अगर आज घर नहीं होता
                                         किसी सजदे में झुका कोई सर नहीं होता...


                                         ये तो तेरा कर्म है चैन से रह लेता हूँ
                                         बड़ा बेखौफ हूँ कभी कोई डर नहीं होता...


                                         लाख चमके नहीं गिरता है बिजलियो का कहर
                                        इतना महफूज यहाँ कोई दर नहीं होता........


                                        क्या बताऊ क्यों डराती है पत्तियों की सिहरन
                                         सांख पर जब कभी उनका बसर नहीं होता....


                                         बड़ी हसीन है खामोशिया शकून भरी
                                         मेरे वजूद पर इनका असर नहीं होता....


                                         खुदा के वास्ते तन्हाइयो में रहने दो
                                         भीड़ में अब गुजर नहीं होता....


                                         मेरी तफ्तीश में रहते है कुछ चाहने वाले
                                         यही शिकवा मेरा कोई खोजे-खबर नहीं होता....


                                        "धीर" खाये है जख्म इतने यहाँ यारो के
                                        वो करेगे वफ़ा दिल को सबर नहीं होता.........
                     

Friday, December 10, 2010

उसका जाना ही मुझे जान गवानी सा लगे....

                                 
                                  मेरे आँगन में लगा पेड़ कहानी सा लगे
                                  कभी बचपन कभी बूढा वो जवानी सा लगे....


                                   उसने देखे है ज़माने के सैकड़ो ही बसंत 
                                   मुझे पुरखो से जुडी याद पुरानी सा लगे..


                                   कभी पतझड का चलन तो कभी मौसम का कहर  
                                   उसका हर हाल में खिलना ही हैरानी सा लगे...


                                  कितनी यादो को समेटे वो खड़ा मौन बना 
                                  मुझे हर सवाल का उत्तर मुह- जुबानी  सा लगे....


                                  एक बंगले के लिए आज उसे जाना है
                                  उसका जाना ही मुझे जान गवानी सा लगे....


                                 "धीर" छोटा था भला कैसे रोकता उनको
                                  जिन्हें हर पल मेरी बाते ही बेमानी सी लगे.....
                                       

" माँ "

                    
                                                 बड़ा महफूज हूँ माँ के आँचल के तले
                                                 जैसे बरगद के साये में कोई साँझ पले...



                                                 समेट लेती है गम आगोश में अक्सर मेरे
                                                 बनके साया वो मेरे साथ चले....



                                                 भीग जाती है आँखे वो पोछती आंसू
                                                सिसकिया लेती है वो आँख से जो आंसू ढले....



                                                दर्द मेरा जख्म उसको भी दे जाता है
                                                रौशनी के लिए दीपक के संग ज्यो बाती जले....



                                                नसीब वाले है वो जिनको माँ का प्यार मिला
                                                माँ के आशीष से जो फूले-फले..............



                                               ये तो विश्वाश नहीं"धीर" हकीक़त समझो
                                                माँ जो टाले तो यहाँ मौत भी आने से टले................

" एक डोली चली एक अर्थी चली "

                     एक डोली चली एक अर्थी चली, आज कैसी विदाई है
                   एक यहाँ से चली, एक वहा से चली, दोनों ही तो परे है .....

                   लाल जोड़े में सजती है दुल्हन- लाल जोड़े में लिपटी सुहागन
                   एक मिलने चली है पिया से- एक पी घर चली है अभागन
                   एक बसाने चली, एक बसाके चली, कैसी प्रीत निभाई है......

                    रो रहे है मगर हर्ष दिल में- एक तरफ रो रहे गमजदा है 
                    हो रही है रस्म सब विदा की- एक को जाना  यहाँ एक वहा है 
                    एक इस घर चली, एक उस घर चली, चारो कांधे उठाई है............

                    बेटिया तो पराई है लेकिन- प्रीत की डोर ऐसी बंधी है
                   "धीर" दस्तूर ये जिन्दगी का- बेडिया बन्धनों की कसी है 
                    एक निभाने चली, एक निभाके चली, कैसी रस्मो अदाई है.....                    

बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या..........

                                            
          इस शहर के दुकंदारो सुनलो जरा, बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या
         माँ का आँचल बहन की हरी चूड़िया, बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या....


    आज हिरसो-हवस की ये मंडी सजी, बोलिया लग रही है यूं ईमान की
    जिस्म बिकता है और बिक रहा है धर्म, ढुंढता हूँ मै पहचान इंसान की
    सजदे मुल्लाओ के पंडितो के भजन,बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या .............

             
मांग का बेच सिन्दूर बच्चे पले,वो अभागन ज़माने मारी हुई   
रोज बिकती थी हसरत के बाजार में, जीत कर भी अभागन वो  हारी हुई
बेबसी, भूख, आँखे वो पानी से तर, बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या......


  भूख ने आज सिखला दी हुशियारी सब, रोटिया चाँद बच्चो को आता नजर
  भूख से बिलबिलाते वो करते भी क्या,बांध लेते थे कसकर वो अपना उदर
   वो सपने सजीले वो परियो के घर, बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या........


 बिक रहा है चलन बिक रही है दुल्हन, बिक रही है सुहागो की राते यहाँ
 बेच डालेगे हम देश को देखना, "धीर"लगती है दिन रात घाते यहाँ 
 ये अर्थी कफ़न और ये सांसे मेरी, बेचता हूँ मै सौदा खरीदोगे क्या..........

मै तुझसे पूछता हूँ दुनियां बनाने वाले.....

                         क्यों आज पड़ गये है तेरी जुबां पे ताले
                       मै तुझसे पूछता हूँ दुनियां बनाने वाले.....


                    कसे धर्म के शिकंजे रोती कुरान गीता
                    अब राम के ही हाथो छली जा रही है सीता
                   क्यों घर के चिरागों ने घर अपने फूक डाले........


                  दो दिन की जिन्दगी है ऊँचे ख्याल अपने
                  पल की खबर नहीं है सौ साल के है सपने
                  रूठी सी जिन्दगी है कैसे इसे मानले..................


                 नफरत के आशिये पर गन्दा सा नाच क्यों है
                 सच्चाईयो पे पर्दे अब सच को आंच क्यों है
                 रिश्ते हुए है बोझिल कैसे कोई निभाले.............


                 इंसानियत के पथ पर खतरे हजार होंगे
                यहाँ कत्ले आम होंगा घर घर मज़ार होंगे
                अक्सर ही आस्तीन में क्यों नाग हमने पाले...

तो राजतिलक की जगह सुबह वनवास नहीं होता..........

                      संबंधो का गर उनको एहसास नहीं होता
                       तो राजतिलक की जगह सुबह वनवास नहीं होता..........


                    रहते मर्यादा में ना खेलते जो चौसर
                     तो दुष्ट दुशासन का दुश्साहस नहीं होता......


                    सोने का हिरन लोगे सीता का हरण होगा
                   सीता का लंका में कभी वास नहीं होता....


                  कुछ लोग मेरे घर में रहते है मेहमा से
                 अपनों में दुश्मन का आभास नहीं होता................


                 अक्सर विपदाओ में हम ढूढते है अपने
                मै रो पड़ता हू जब कोई पास नहीं होता........


                घर में खामोशी है चौपाले सूनी है
               अब "धीर" यहाँ कोई परिहास नहीं होता...............
                                                          

Wednesday, December 8, 2010

" शतरंज "

                            देखना शतरंज का बेडा सजाया जायेगा
                           फिर प्यादों को वजीरो से लड़ाया जायेगा......


                           दाग चहरों पर बहुत है  क्या करे बेगम भला
                            महलो से बस आइनों को ही हटाया जायेगा.....


                          जो चला ढाई कदम और लडखडाकर गिर गया
                          दाव ऐसे घोड़ो पर ही फिर लगाया जायेगा......


                          रोंद डाले अपने प्यादे ही ये उनकी चाल है
                          मदमस्त रण के हाथियों को ही बनाया जायेगा....


                          वो लगे करवट बदलने दाव उल्टा चल गये
                          चाल तिरछी ऊंट की सीधा चलाया जायेगा....


                           अब वजीरो की कहाँ रौशन पुरानी आब है
                          शान रुतबा खाक में उनका मिलाया जायेगा..............


                        "धीर" शतरंज की ये चाले अब समझ आने लगी
                         आग पर बर्तन पुराना ही चढ़ाया जायेगा..........

पहचान पर आने लगे.......

                      तीर तरकश से निकल कमान पर आने लगे
                      जब से गढ़े मुद्दे यहाँ जुबान पर आने लगे.....


                      मांग आरक्षण  की लेकर वो सड़क पर आ गये
                      वार अब उलटे पलटकर शान पर आने लगे......


                      वो कहा ऐतबार करते है किसी की बात पर
                      मान लेते है वो सब जब जान पर आने लगे.......


                     अपनी उलझन  से कभी पीछा मेरा छुटता  नहीं
                     उलझने वो लेके ढेरो मकान पर आने लगे.......


                     जब से हुए फाकानसी ऐतबार उनको है कहाँ
                     पर्चियां लिखकर तकादे सामान  पर आने लगे......


                     देख पतझड़ उड़ गये थे जो परिंदे सांख से
                    देख सावन"धीर"वो पहचान पर आने लगे.......

"अब अमन और चैन को दर से गये अरसा हुआ"

                      इस शहर से संस्कारो को गए अरसा हुआ
                      आँख से सुन्दर नजारों को गए अरसा हुआ......


                   वादियों में हसरते गुलशन चमन गुलजार था
                  फूल से खुश्बू बहारो को गए अरसा हुआ.......


                  वो सितम की रात काली सर पे सायो की कसर
                  मेरे घर से सब दीवारों को गये अरसा हुआ.....


                हलकी सी बरसात में ही छत दिलो तक तर हुई
                अब अमन और चैन को दर से गये अरसा हुआ.....


               मै किसे हिम्मत बंधाता और देता हौसला
               अब दिलो से हमदर्दियो को गये अरसा हुआ......

                                                
              हिन्दुओ के घर कुराने मुस्लिम पढ़े गीता यहाँ
            "धीर" ऐसे मंजरो को अब गये अरसा हुआ......
                                          
             
               

             

मंजिले चलकर कभी कदमो तलक न जायेगी........

                                          कश्तिया लहरों से जो टकरायेग
                                          देखना साहिल पे वो ही जाएगी.......

                                         टूटकर तारा धरातल पर कभी आता नहीं 
                                         मंजिले चलकर कभी कदमो तलक न जायेगी........

                                        वो समुन्द्र के किनारे रेत से गढ़ता जहाँ 
                                        है उसे मालूम लहरे सब बहा ले जायेगी.......

                                        अब जमी का जिक्र क्या उड़ना है गर आस्मां पे 
                                        हौसले से ही वहा बस्ती बनाली जायेगी.....

                                       वो सिकंदर सा चला था जीतने संसार को
                                       बल ना जायेगा कभी यहाँ रस्सिया जल जायेगी.....

                                      "धीर" किस्मत और कर्म में फांसला है दूर का
                                       साथ गर दोनों हो मछली रेत पर पल जायेगी.........