Saturday, August 30, 2014

गौ माता आशा छोड़ दो ,,,,,,,
हे गौ माता आश छोड़ दो अब जग के गोपालो से
उठो बचालो खुद अपने को इन जहरीले कालो से
हे गौ ,,,,,,,,,
बिक़े हुए अखबार भला क्या माँ तुझ पर लिख पायेंगे
जो सत्ता के मद में डूबे क्या कानून बनायेगे 
माता कहकर तुझे बेच दे उन मक्कार दलालो से
हे गौ ,,,,,,,
भगवा वस्त्र,धवल धोती अब तिलक दिखावा बना यहाँ
धर्म बना बस एक खिलौना, हुआ अँधेरा घना यहाँ
गौ शाला में धाक जमाये हत्यारे चण्डालो से
हे गौ ,,,,,,,,,
चंदो की जो चांदनी काटे छीन निवाले लाल तेरे
तेरे नाम से ऐश हज़ारो करते छदम दलाल तेरे
क़तलग़ाह से मिले हुए जो इन गद्दार हलालो से
हे गौ ,,,,,,
सत्य बड़ा कड़वा होता है हज़म कहा हो पाता है
इन गउओं का छीन निवाला गौ सेवक ही खाता है
गौ शाला में सौदा करते गौ सेवक नक्कालों से
हे गौ ,,,,,,,,
तेरे गुड और चारो तक का माँ सौदा हो जाता है
गौ शाला में जख्म हज़ारो, मरहम माँ खो जाता है
,,धीर, बचालो माँ अपने को इस जग के जंजालों से
हे गौ ,,,,,,,,,,,,

Photo: गौ माता आशा छोड़ दो ,,,,,,,
हे गौ माता आश छोड़ दो अब जग के गोपालो से 
उठो बचालो खुद अपने को इन जहरीले कालो से 
हे गौ ,,,,,,,,,
बिक़े हुए अखबार  भला क्या माँ तुझ पर लिख पायेंगे
जो सत्ता के मद में डूबे क्या कानून बनायेगे 
माता कहकर तुझे बेच दे उन मक्कार दलालो से 
हे गौ ,,,,,,,
भगवा वस्त्र,धवल धोती अब तिलक दिखावा बना यहाँ 
धर्म बना बस एक खिलौना, हुआ अँधेरा घना यहाँ 
गौ शाला में धाक जमाये हत्यारे चण्डालो से 
हे गौ ,,,,,,,,,
चंदो की जो चांदनी काटे छीन निवाले लाल तेरे 
तेरे नाम से ऐश हज़ारो करते छदम दलाल तेरे 
क़तलग़ाह से मिले हुए जो इन गद्दार हलालो से 
हे गौ ,,,,,,
सत्य बड़ा कड़वा होता है हज़म कहा हो पाता है 
इन गउओं का छीन निवाला गौ सेवक ही खाता है 
गौ शाला में सौदा करते गौ सेवक नक्कालों से 
हे गौ ,,,,,,,,
तेरे गुड और चारो तक का माँ सौदा हो जाता है 
गौ शाला में जख्म हज़ारो, मरहम माँ खो जाता है 
,,धीर, बचालो माँ अपने को इस जग के जंजालों से 
हे गौ ,,,,,,,,,,,,

No comments: